Hindistock आज 3 खुशियां एक साथ मना रहा है जानिए इसकी सफलता का राज

सबसे ज्यादा खुशी होती है जब आप कोई काम शुरू करते है और उसका परिणाम भी आपके मुताबिक ही आये। सच मे वो किसी भी खुशी से बढ़कर होता है। हमारे blogging industry में भी ऐसा ही होता है। blogging में सफल होना एक चुनोतीपूर्ण काम होता है और ये हर किसी सौभाग्य में नही होता लेकिन जो मेहनत करते है उनको इसका फल जरूर मिलता हैं। Now Reading – hindistock success story.hindistock Success

ऐसी ही कहानी कुछ hindistock.com के साथ है। आज hindistock आपके साथ कई खुशियां बांट रहा है और उनमें सबसे बड़ी खुशी है कि हमने जो लक्ष्य लिया था आज वो पूरा होने को है। मुझे blogging में लगभग एक साल हो चुका है और इस दौरान मैंने ब्लॉगिंग से कोई पैसे नही कमाये थे लेकिन आज 21 जुलाई 2017 को आखिरकार वो समय आ ही गया। finally google को भी पता चल गया कि अब पैसे देने का वक्त आ गया है। आज मेरी google से पहली पेमेंट आ चुकी है इसके अलावा भी बहुत कुछ है जो आपको इस पोस्ट में मिलने वाला है।

सबसे पहले आप यहां क्लिक करके मेरी 50 पोस्ट होने तक की कहानी पढ़ लेंगे तो अच्छा होगा और आपको मेरे संघर्ष का पता चल जाएगा। blogging एक ऐसा विषय है जिसमे हर blogger को पहले से ही संघर्ष के लिये तैयार रहना पड़ता है। अगर आपमे भी संघर्ष करने की काबिलियत नही है तो आप आज ही ब्लॉगिंग को छोड़ सकते है। आज मैं आपके साथ कुछ ऐसी personal बातें भी शेयर करने वाला हूँ जो शायद आपको कही और कोई भी ब्लॉगर ना बता पाये। तो चलिए देखते है कि blogging इन सुनहरे पन्नो की कहानी कैसे बनी।

blogging का पहला चरण- hindistock success story

सबसे पहले तो आपको सबसे पहले 50 पोस्ट की कहानी का ही revision करवा देता हूँ और अगर आप मेरे रेगुलर visitor है तो आपको शायद इसके बारे में पता भी होगा। वैसे मैने ब्लॉगिंग की शुरुआत एक बड़े हादसे के बाद ही की थी उस हादसे के बाद मैं अकेला हो गया था और कहते है ना कि खाली दिमाक शैतान का घर होता है तो मेरा दिमाक को कंप्यूटर के अलावा वैसे भी और कहीं नही चलता। तो उस अकेलेपन में मेरा एक ही सहारा था वो था मेरा एक एंड्राइड मोबाइल। जिंदगी के उस दर्दनाक दौर में भी मैने internet का साथ नही छोड़ा इन दिनों ही मैने net पर कहीं से फ्री वेबसाइट बनाने के बारे में पोस्ट पढ़ी। सच कहूँ तो वो पोस्ट मुझे समझ तो नही आई लेकिन bookmark कर लिया था और सोचा कि चलो हम भी एक वेबसाइट बनाते है और हमने ब्लॉगिंग की तरफ रुख कर लिया।

मैने सबसे पहले जो ब्लॉग बनाया था वो blogger platform पर था (आज वो उपलब्ध नही है) और आप भी जानते है कि बिना तैयारी के ब्लॉगिंग करना तो कोई मतलब की बात नही है। मुझे ब्लॉगिंग के बारे में कुछ नही पता था तो उस समय मेरे सबसे अच्छे गुरु थे मयंक भारद्वाज जी जो 2007 से ब्लॉगिंग में है। उन्होंने मेरी हेल्प की थी। मैं पोस्ट रेगुलर करता था लेकिन SEO क्या होता है ये ना हो मैं पढ़ना चाहता था और ना ही पढ़ा। जिसके कारण मेरा वो ब्लॉग भी सभी new blogger की तरह बर्बाद हो गया लेकिन मेरा जुनून अब भी वैसा ही था। मेरा वो ब्लॉग मात्र 19 दिन ही चला और उन 19 दिनों में मैंने इस पर लगभग 35 पोस्ट कर दी थी लेकिन किसी भी इमेज को ना ही मैंने एडिट किया और ना ही resize किया जिसके कारण वो पोस्ट किसी ने नही पढ़ी होगी। ऐसा मैं मानता हूँ।

ब्लॉगिंग का दूसरा चरण

जब मैं blogger platform पर था तो उस समय मैंने wordpress के बारे में भी पढ़ा था। तो मैने सोचा कि इस बार हम ब्लॉग wordpress पर बनायेगे। मेरे पास अब भी computer नही था (अभी 14 जुलाई 2017 को ही लिया है) तो मैंने सबसे पहले godaddy से basic manage wordpress hosting package लिया जिसका price 1280₹ anual था और मुझे promo code के द्वारा 500 का discount भी मिल गया था इसके अलावा मुझे इसके साथ free में domain भी मिला था जिसके बारे में ज्यादा रिसर्च नही की और जो blogger पर था उसी domain को बुक कर लिया।

finally अब सब कुछ set था तो फिर से एक नए जोश के साथ पोस्ट करनी शुरू कर दी। इस बार मैंने हिंदी में लिखना शुरू कर दिया। लगातार पोस्ट करने और social site पर share करने से एक महीने बाद उस पर traffic भी आने लगा था। मेरा पूरा का पूरा ट्रैफिक ही refferal था लेकिन मुझे इसके बारे में पता नही था। अब 1 महीने बाद ही मेरा प्लान था कि किसी तरह adsense को approve करवाया जाए। तो मैंने भी apply कर दिया और मुझे याद नहीं कितने दिन बाद replt आया लेकिन reply में thank you ही बोला गया और और ज्यादा मेहनत करने को बोला गया। कहने का मतलब कि content की और visitor की अब भी कमी थी। फिर मैंने दूसरी email से 20 दिन बाद फिर से apply कर दिया लेकिन इस बार सच मे बहुत बड़ा surprise था adsense का रिप्लाई आया कि आपका adsense इस साइट पर already approve है लेकिन सच मे ऐसा कुछ भी नही था। गलती कहां हुई इसके बारे में मुझे लगभग 2 महीने बाद पता चला होगा। दरअसल एडसेंस के मुताबिक approval मिल चुका था लेकिन fully approve नही हुआ था।

फिर मैंने एक बार फिर से apply किया लेकिन इस बार भी approve नही हुआ और अब मैं बिल्कुल निराश हो चुका था। ब्लॉगिंग में मन लगना कम हो गया था। daily की जगह 2-3 दिन बाद पोस्ट होने लगी थी। finally मैंने सोचा कि साइट में ही कोई प्रॉब्लम है इसलिये मैंने उस साइट को डिलीट कर दिया था (असल में ऐसा नहीं करना था) और वो होस्टिंग उसके बाद मेरे कभी भी काम नही आयी थी। बाद में पता चला कि copyright issue के कारण सब कुछ गड़बड़ हो गया था।

blogging का तीसरा चरण

अब सितंबर 2016 आ चुका था और समय एक ब्लॉग का hindistock.in जो विशाल राठौड़ का था। ये मेरे फेसबुक मित्र थे। मैंने देखा कि इन्होंने hindistock.in डोमेन ले रखा है और .com डोमेन अब भी available है तो मैंने godaddy के ₹99 वाला डोमेन बुक कर लिया जो मुझे 137₹ का मिला था। 24 सितंबर 2016 को फिर से मैंने होस्टिंग ली और उस पर wordpress install करके blogging start कर दी थी। अब यहाँ से hindistock.com की शुरुआत हो गयी थी। इस बार only एक ही टारगेट था कि जल्द से जल्द एडसेंस को approve करवाया जाए इसलिए नही कि पैसे कमाएंगे बल्कि इसलिए जरूरी था कि कहीं पहले की तरह ना हो जाये। जब मेरे only 70 pageview/day थे तब मैंने apply कर दिया था और adsense का कोई reply नही आया। 4-5 दिन बाद mail आया कि code को head के नीचे paste करो। मैंने कर दिया।

3 नवंबर 2016 को adsense का reply आया कि आपका account fully approve हो चुका है और आप ad code बनाकर साइट पर लगा सकते है। सच मे इतनी खुशी हुई जैसे मान लो हल्दीघाटी का युद्ध जीत लिया हो।(मेरा favourite टॉपिक है हल्दीघाटी का युद्ध)। अब मेरा पैसे कमाने का टारगेट नही था क्योंकि मैं अच्छी तरह से जानता था कि 70 pageview से आप कुछ नही कमा सकते। अब मुझे low traffic से उलझना था तो मैंने साइट को promot करने में ध्यान लगा दिया। धीरे धीरे इसका नतीजा भी आने लगा और मेरे pageview भी बढ़ने लगे। उसके बाद अचानक से एक और मोड़ आया और दिसंबर के बाद रेगुलर पोस्ट करना बंद कर दिया और किसी और काम पर ध्यान लगा दिया लेकिन फिर भी ब्लॉगिंग करने का भूत अब तक नही उतरा था जैसे तैसे करके मार्च 2017 तक ब्लॉग्गिंग धीरे धीरे करता गया। आपको शायद याद होगा कि मार्च में google update हुआ था जिसका मुझे बहुत फायदा हुआ क्योंकि मेरा ट्रैफिक एकदम से बढ़ गया था और 6000 per month की जगह 15000 pageview per month हो गए थे तो एक बार फिर से ब्लॉगिंग में मजा आने लगा उसके बाद जितना टाइम मैं निकाल सकता था उतना टाइम मैंने अपने ब्लॉग को दिया और पोस्ट करता गया। अब adsense बहुत अच्छा साथ देने लगा था जिससे मेरा हौसला और बढ़ गया था। इसी तरह से मेरा ब्लॉग भी अब रैंक करने लगा था।

आज मेरे ब्लॉग की रैंक alexa के हिसाब से india में ranking लगभग 88000 है जो कि 2 महीने पहले 4 लाख के करीब थी और global rank 17 लाख ले आसपास है जो कि 3 महीने पहले 27 लाख के करीबन थी जिससे आप अंदाज लगा सकते है कि कितनी improvement हुई है।

जैसा कि मैंने पहले बताया कि मैं आज एक साथ तीन तीन खुशिया मना रहा हूँ अब आपको बताता हूँ वो कौन कौन सी है। सबसे पहली तो ये कि –

  1. आज मेरी google से payment आ चुकी है और मेरी ये पहली income है जो हर blogger का पहला सपना होता है।
  2. दूसरी खुशी ये कि आज analytics के हिसाब से मेरे हर महीने के pageview 28000 के आस पास होते है जो कि पहले 15000 के हिसाब से होते थे तो इसमें भी बहुत improvement हुई है।

hindistock success3. और तीसरी सबसे मजेदार खुशी की बात ये कि मैंने हर 50 पोस्ट के बाद ऐसी ही एक पोस्ट लिखने का निर्णय लिया था और संयोगवश आज ये मेरी 100वीं पोस्ट है जिसके बारे में मुझे भी पता नही था कि सच मे ये तीनो खुशियां ही एक साथ आ जायेगी।

तो दोस्तो ये थी मेरी दूसरी hindistock success story की कहानी जो कि 100 post के बाद थी मुझे नही लगता कि मैंने इसमे कोई कमी देखी है और मेरे ब्लॉग में भी कोई कमी है लेकिन फिर भी आपको अगर लगता है कि इसमें कोई सुधार करने की गुंजाइश है तो आप अपने कीमती सुझाव comment के जरिये बता सकते है। आपके सुझाव आमंत्रित है और हो सकता है कि आपके सहयोग से इस ब्लॉग को मैं और ऊंचाइयों पर ले जा सकूं। आपको मेरी ये पोस्ट कैसी लगी मुझे जरूर बताएं और मेरे साथ इसी तरह से जुड़े रहे।

keep blogging.keep visiting.

9 Comments

  1. bheshpratap sahu
  2. Mukesh Gupta
  3. yasir khan saqlaini

Give a Comment